Wednesday, April 22, 2009

तीन चार महीने आराम करूंगी-मिनिषा लांबा | मुलाकात

मिनिषा लांबा अपनी पिछली रिलीज फिल्म किडनैप की असफलता को भुला चुकी हैं। अब उनका ध्यान अब्बा का कुंआ पर है। इस फिल्म में उनकी क्या भूमिका है..?
मिनिषा लांबा पिछली फिल्म किडनैप की असफलता को अब तक भुला चुकी हैं। अब वे अपनी नई फिल्म अब्बा का कुंआ की रिलीज की प्रतीक्षा में हैं। प्रसिद्ध फिल्मकार श्याम बेनेगल निर्देशित इस फिल्म में वे एक दिलचस्प लुक और रोचक रोल में नजर आएंगी। मिनिषा के पास इस वक्त अब्बा का कुंआ के अतिरिक्त कोई भी फिल्म नहीं है, लेकिन उन्हें इस बात का दुख नहीं है। वे बेफ्रिक होकर कहती हैं, श्याम जी की फिल्म अब्बा का कुंआ में काम करने के बाद फिल्मों के बारे में मेरी सोच बदल गई है या यह कह सकती हूं कि अब मैं अधिक समझदार हो गई हूं। इस वक्त मेरे पास कोई फिल्म नहीं है और मुझे फिल्म साइन करने की जल्दबाजी भी नहीं है। मेरे पास फिल्मों के प्रस्ताव लगातार आ रहे हैं, लेकिन मैं उन्हें स्वीकार नहीं कर रही हूं। अब मैं दमदार और अर्थपूर्ण भूमिकाएं ही करूंगी। फिलहाल मैंने तय किया है कि तीन-चार महीने आराम करूंगी। उसके बाद नई फिल्मों के बारे में सोचूंगी। लगातार शूटिंग कर के मैं थक गई हूं।
रोल की चर्चा होते ही वे उत्साह से कहती हैं, फिल्म अब्बा का कुंआ मेरे करियर के लिए मील का पत्थर साबित होगी। हाल ही में मैं हैदराबाद से फिल्म की शूटिंग खत्म की है। श्याम जी के साथ काम करने का अनुभव न अच्छा रहा। उनके निर्देशन में काम करने के बाद मेरे अंदर का कलाकार और ज्यादा निखर गया। मेरा कॉन्फिडेंस बढ़ गया है। मैं भाग्यशाली हूं, जो मुझे उनके साथ काम करने का अवसर मिल गया!
मिनिषा अब्बा का कुंआ में अपने लुक और भूमिका के बारे में कहती हैं, फिल्म में मैंने गांव की एक लड़की की भूमिका निभाई है, जो सीधी-सादी, लेकिन चंचल है। सच तो यह है कि चार वर्ष के करियर में मैंने ऐसी भूमिका नहीं की है। यह मेरे करियर की पहली नॉन ग्लैमरस भूमिका है। इसका श्रेय मैं श्याम जी को ही दूंगी, क्योंकि मैंने स्वयं को उस अंदाज में कभी नहीं सोचा था! पहली बार मैं किसी फिल्म को लेकर इस कदर उत्साहित हूं। सच कहूं, तो फिल्म में मेरा लुक, पहनावा और बातचीत का अंदाज देखकर दर्शक चौंक जाएंगे!
मिनिषा फिल्म की कहानी के बारे में जानकारी देने से बचती हैं। वे कहती हैं, यह फिल्म पॉलिटिकल सटायर है। वे अपने सह-कलाकार बोमन ईरानी और समीर दत्तानी के बारे में बात करने में बिल्कुल नहीं हिचकिचातीं, बोमन के साथ मैं पहले फिल्म हनीमून टै्रवेल्स प्रा।लि. में काम कर चुकी हूं। उनके अभिनय के बारे में कुछ कहना, छोटी मुंह बड़ी बात होगी। वे फिल्म में मेरे अब्बा की भूमिका निभा रहे हैं। समीर के साथ यह मेरी पहली फिल्म है। वे स्वीट और सहयोगी कलाकार हैं। उनके साथ काम करने का अनुभव अच्छा रहा। उनके बारे में लोगों ने गलत धारणा बना ली है, लेकिन अब्बा का कुंआ देखने के बाद सबकी सोच बदल जाएगी। श्याम जी ने अपने हर कलाकार से बेहतरीन काम लिया है। सब जानते हैं कि निर्देशक अच्छा होता है, तो कलाकार अपने आप अच्छा हो जाता है।

-रघुवेंद्र सिंह

1 comment:

Easy To Me said...

आराम से मेरी बात at ez2.me